Mustard Oil Today Price: सरसो के तेल में आई फिर से गिरावट

Mustard Oil Today Price

Mustard Oil Today Price

रसोई में इस्तेमाल किए जाने वाले सरसों तेल के दाम गिर गए हैं। बढ़ती हुई महंगाई की मार झेल रहे लोगों के लिए राहत भरी खबर सामने आई है। महंगाई भरे इस दौर में जहाँ हर चीज़ के दाम हर रोज़ बढ़ रहे है वहीं दिल्ली के तेल बाजार में अचानक से तेलों की कीमतों में अच्छी-ख़ासी कमी देखने को मिली है।

Mustard Oil Today Price
Mustard Oil Today Price

सरसों तेल के अलावा पाम तेल, सोयाबीन तेल एवं अन्य खाने में उपयोग किए जाने वाले तेलों के दाम कम हुए हैं। पिछले सप्ताह से ही तेल के दाम कम होने शुरू हो गए थे ।

नए फसल के बाजार में आ जाने के कारण तेल तिलहन के मूल्यों में कमी आई है।

भारतीय व्यंजनों की जान सरसों का तेल है। सरसों के तेल के बिना भारतीय व्यंजनों की परिकल्पना भी नहीं की जा सकती है।

सरसों, मूंगफली, सोयाबीन, बिनौला इन सब फसलों की उत्पादन बढ़ने से तेल की कीमतों में गिरावट हो गई है।

अंतर्राष्ट्रीय बाजारों में भी खाद्य तेलों के दाम में कमी साफ़ साफ़ देखी जा सकती है। आज हम अपने आर्टिकल के माध्यम से आपको बताएंगे क्यों खाद्य तेलों के दाममें ये अचानक कमी आ रही है।

इसके अलावा सरसों सोयाबीन मूंगफली एवं अन्य खाद्य तेलों के मूल्यों के बारे में चर्चा करेंगे। तो बने रहे हमारे आर्टिकल में और जानिए खाद्य तेलों से जुड़ी हर जानकारी।

भारत में सरसों की खेती कहां कहां होती है

यह तो हम जानते हैं कि भारत के लोग खाना बनाने के लिए सरसों तेल का ही उपयोग करते हैं।

सरसों की खेती भारत के गुजरात राजस्थान यूपी मध्य प्रदेश पंजाब और हरियाणा में की जाती है। सरसों की पैदावार सबसे ज्यादा गुजरात में होती है।

पंजाब में गेहूं तो सबसे ज्यादा उत्पादन किया ही जाता है सरसों की भी वहां के खेतों में खूब पैदावार होती है। तीसरे नंबर पर सरसों का उत्पादन मध्य प्रदेश में होता है।

News

भारत में खाद्य तेल का उत्पादन

भारत में 2.6 करोड़ टन तेल की आवश्यकता है। परंतु उत्पादन केवल 40% तक ही हो पाता है।

पहले तो केवल सरसों तेल से ही सारे व्यंजन बनाए जाते थे और मिष्ठान के लिए केवल शुद्ध घी का उपयोग किया जाता था।

परंतु अब सेहत के प्रति जागरूक लोगों के द्वारा सोयाबीन तेल, मूंगफली का तेल, ऑलिव ऑयल और भी विभिन्न प्रकार के तेलों का उपयोग व्यंजनों को बनाने में किया जाने लगा है।

खाद्य तेल का आयातक

भारत क्रूड ऑयल का आयात करता है यह तो हम सब जानते ही हैं। इसके अलावा भारत खाद्य तेल का भी आयात करता है और विश्व का सबसे बड़ा आयातक खाद्य तेल के मामले में भारत ही है।

भारत में आयात होने वाली वस्तुओं में सबसे पहले क्रूड आयल है और उसके बाद खाद्य तेल।

खाद्य तेलों में भी भारत ‘कच्चे पाम ऑयल’ का सबसे ज्यादा आयात करता है जो कि पूरे खाद्य तेल का 43 प्रतिशत है।

कच्चे पाम तेल का आयात भारत इंडोनेशिया और मलेशिया से करता है। सोयाबीन तेल का आयात भारत अर्जेंटीना और ब्राज़ील से करता है।

भारत में तिलहन के फसलों की बुवाई होती है लेकिन जितने तेल की आवश्यकता है इतनी उत्पादन क्षमता नहीं है।

भारत में जितने खाद्य तेल की आवश्यकता है उसका महज 40% ही उत्पादन हो पाता है। इन्हीं कारणों की वजह से भारत को खाद्य तेल का आयात करना पड़ता है।

जब अंतरराष्ट्रीय बाजारों में तेल की कीमत गिरती है तभी भारतीय बाजारों में भी तेल की कीमत को गिरा दिया जाता है। उसी प्रकार रसोई गैस हो या डीज़ल पेट्रोल सभी अंतर्राष्ट्रीय बाज़ारों से प्रभावित है.

सरकार द्वारा चलाई जा रही कोटा प्रणाली के वजह से भी तेल की कीमतों में गिरावट देखने को मिल रही है।

इस साल सोयाबीन के भाव काफी गिर गए हैं अभी फिलहाल सोयाबीन 5000 से 5,700 रुपए प्रति क्विंटल पर बेचा जा रहा है।

जबकि पिछले साल सोयाबीन लगभग 9000 से शुरू होकर के 10,000 रुपए प्रति क्विंटल के मूल्य पर बिका था।

वहीं अगर हम बात करें सरसों के तेल की तो सरसों के तेल के मूल्य 15,400 रुपए प्रति क्विंटल पर अभी मिल रहा है।

मूंगफली की नई फसल बाजार में आ जाने के कारण मूंगफली तेल का भाव भी काफी कम हो गया है।

मूंगफली का तेल 15, 620 रुपए प्रति क्विंटल पर अभी उपलब्ध है।

मूंगफली के तेल से होने वाले फायदे

मूंगफली का तेल स्वास्थ्य के लिए काफी लाभदायक माना जाता है। इसमें हार्ट, त्वचा, हड्डियों और बालों के लिए बहुत सारे पोषक तत्व पाए जाते हैं।

जो लोग मूंगफली के तेल को अपनी डाइट में शामिल करते हैं उनके बॉडी में बैड कोलेस्ट्रॉल की मात्रा कम हो जाती है। डायबिटीज की समस्या कम हो जाती है।

मूंगफली के तेल में पाए जाने वाले पोषक तत्व से शरीर में होने वाले दर्द से भी काफी राहत मिलती है।

त्वचा के लिए भी मूंगफली का तेल लाभदायक है गर्मियों में जब हमारी त्वचा रूखी सुखी हो जाती है तो मूंगफली के तेल से मसाज करने से त्वचा में नई रौनक आ जाती है।

मूंगफली के तेल इस्तेमाल करने से बालों में होने वाली समस्या जैसे कि बालों का झड़ना, डैंड्रफ, बालों में रुखापन यह सारी समस्याएं जड़ से खत्म हो जाती है।

सोयाबीन के तेल से लाभ

सोयाबीन के तेल में भारी मात्रा में प्रोटीन पाया जाता है। प्रोटीन मानव शरीर के लिए बहुत अच्छा होता है। अगर प्रोटीन पर्याप्त मात्रा में शरीर में रहता तो लोग कम बीमार पड़ते हैं।

सोयाबीन के तेल का इस्तेमाल करने से यह मानव मस्तिष्क के लिए बहुत ही ज्यादा कारगर होता है। आंखों के लिए भी सोयाबीन का तेल उत्तम माना जाता है।

सोयाबीन तेल में विटामिन ई और बायोफ्लेवोनॉयड्स प्रचुर मात्रा में पाया जाता है जिससे मोतियाबिंद, अंधापन रेटीना का खराब होना यह सब समस्याएं नहीं होती है।

सोयाबीन का तेल इस्तेमाल करने से एनीमिया रोग के रोकथाम में मददगार साबित होता है।

सोयाबीन का तेल इस्तेमाल करने से ब्लड प्रेशर और हार्ट प्रॉब्लम नहीं होता है।

सोयाबीन के तेल इस्तेमाल करने से महिलाओं को होने वाली परेशानियां जैसे स्तन कैंसर, पेट का कैंसर यह सब रोगों को नहीं होने देता है।

सिर्फ सोयाबीन तेल ही नहीं वरन सोयाबीन में भी यह सारे विटामिन पाए जाते हैं तो आप सोयाबीन का इस्तेमाल भी अपने खाने में प्रचुर मात्रा में कर सकते हैं ताकि इन रोगों से लड़ने में मदद मिले।

सरसों तेल के फायदे और उपयोग

सरसों तेल भारतीय खानपान में से प्राथमिकता मिली हुई है। शायद ही भारत में कोई घर होगा जहां सरसों तेल का इस्तेमाल खाने के लिए ना होता हो।

सरसों तेल के फायदे तो हम बचपन से ही सुनते आ रहे हैं। सरसों तेल शरीर की मालिश के लिए बहुत ही उत्तम है।

सरसों तेल का इस्तेमाल करने से ब्लड सरकुलेशन बहुत ही अच्छा बना रहता है। सरसों तेल में बहुत सारे औषधीय गुण भी पाए जाते हैं।

सरसों तेल शरीर में मालिश करने के साथ-साथ हम दांतों में भी तेल में नमक मिलाकर मालिश कर सकते हैं।

बालों में सरसों का तेल इस्तेमाल करने से डैंड्रफ सिरदर्द यह सब आसानी से गायब हो जाता है।

ठंड में सरसों के तेल इस्तेमाल करने से बॉडी गर्म रहती है नहाने के बाद लोग अक्सर सरसों का तेल इस्तेमाल करते हैं।

निष्कर्ष

हमारे द्वारा आज इस आर्टिकल के माध्यम से आपको खाद्य तेल की कीमतें एवं उससे जुड़ी जानकारियां प्रदान की गई हैं।

इसके साथ ही खाद्य तेल के दाम गिरने का क्या कारण है और कौन सा खाद्य तेल मानव शरीर के लिए सबसे उपयोगी है इन सब के बारे में विस्तृत रूप से जानकारियां दी गई हैं। 

हम आशा करते हैं कि आपको हमारा यह आर्टिकल पसंद आया होगा। हमारे आर्टिकल में अंत तक बने रहने के लिए आपका धन्यवाद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *