BPL card कटने से लघु सचिवालय में भीड़ ने मचाई खलबली, तुरन्त बुलानी पड़ी पुलिस..

Indian News Desk:

 BPL card कटने से लघु सचिवालय में भीड़ ने मचाई खलबली, तुरन्त बुलानी पड़ी पुलिस..

एक लाख अस्सी हजार से अधिक आय वाले परिवारों के बीपीएल कार्ड रद्द कर दिए जाने के निर्णय से हिसार जोन में खलबली मच गई है। फतेहाबाद और भिवानी में लोगों ने प्रदेश सरकार के निर्णय के खिलाफ नाराजगी जताई।  

हिसार जिले से करीब 30 हजार से अधिक लोगों के राशन कार्ड रद्द होने की सूचना है। राशन कार्ड रद्द होने का मोबाइल पर मैसेज मिलने पर बड़ी संख्या में शुक्रवार को लोग लघु सचिवालय का चक्कर काटते रहे। भीड़ अधिक होने पर फैमिली आईडी के कार्यालय को सौर ऊर्जा के कार्यालय भवन में स्थानांतरित किया गया। लोगों के गुस्से को शांत करने के लिए पुलिस का सहारा लेना पड़ा। डीएफएसओ अमित

शेखावत ने बताया कि बीपीएल कार्ड को लेकर सारी कार्रवाई एडीसी कार्यालय की ओर से की जा रही है।
फतेहाबाद में शुक्रवार को अतिरिक्त उपायुक्त कार्यालय में सैकड़ों लोग परिवार पहचान पत्र में आय ठीक कराने के लिए पहुंच गए। एडीसी कार्यालय के कमरा नंबर 70 के बाहर सैकड़ों की संख्या में भीड़ उमड़ने से अव्यवस्था फैल गई। पीड़ित महिला बिमला और राजो ने बताया कि मेरा राशन कार्ड में नाम कट गया है। राजो ने बताया कि परिवार में कोई कमाने वाला नहीं है। इसके बावजूद राशन कार्ड सूची से नाम कट गया है। 

अप्रैल से बंद पड़ा बुजुर्ग पेंशन का पोर्टल 
भिवानी जिले में परिवार पहचान पत्र में आमदनी ने बुजुर्गों की टेंशन बढ़ाई हुई है। 1505 बुजुर्गों की नई पेंशन बनी तो 296 बुजुर्गों की पेंशन कट गई है। अप्रैल से ही बुजुर्ग पेंशन बनवाने का पोर्टल बंद पड़ा है।  परिवार पहचान पत्र से जोड़े जाने के बाद अब घर पर ही नागरिक सहमति प्रपत्र भरवाया जाएगा।

जिन लोगों के बीपीएल राशन कार्ड कटे हैं, वे भी हमारे विभाग के पास शिकायत लेकर आ रहे हैं, जबकि खाद्य आपूर्ति एवं उपभोक्ता मामले विभाग को पोर्टल जारी किया हुआ है। इसमें शिकायत दर्ज करा सकते हैं, उसमें यह भी पता लग जाएगा कि कार्ड से नाम क्यों कटा है। हमने परिवार पहचान पत्र त्रुटियां ठीक करने के लिए दो हेल्प डेस्क लगा रखे हैं, जिन पर शिकायतों का निवारण किया जा रहा है। -हिमांशु त्यागी, प्रबंधक, जिला नागरिक संसाधन विभाग भिवानी। 

Share this story

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *